गाजीपुरः मुहम्मद साहब की जयंती पर चहुंओर गूंजा मरहब्बा-मरहब्बा

गाजीपुर। दावते-ए-इस्लामी के बैनर तले अजीमुश्शान जुलूस-ए-मिलाद निकाला गया जो टाऊनहाल से प्रकाश टाकीज, सुहासिनी टाकीज, लालदरवाजा, झुन्नूलाल चैराहा, सैय्यदबाड़ा, बरबराहना, एमएच इंटर कालेज, तुलसीया का पुल, लकड़ी का टाल, नखास व मिश्रबाजार होते हुए टाउन हाल मैदान में समाप्त हुआ। दावते-ए-इस्लामी के निगरान अफजल हुसैन अत्तारी ने बताय कि मुहम्मद साहब जब इस दुनिया में तशरीफ लाये तो उन्होने यह बताया कि हम सब को एक अनमोल जिंदगी अल्लाह ने दी है इसको किस तरीके से गुजारा जाये। मसलन खाना-पीना, उठना-बैठना, दूसरों से किस तरह बाते करना, अपने से छोटे से किस तरह मुहब्बत करना, बड़े-बजुर्गो का अदब करना, गरीबों का हक दिलाना इसी तरह के तमाम अच्छे कार्य जिनको हमारी जिंदगी का अहम पहलू माना जाता है। इन सब बातों पर अमल करने को बताया है। हमारे नबी ने पैगाम दिया कि उसमे सबसे बड़ा आपस में मेल-जोल और मुहब्बत एखलाक का पैगाम दिया। इसी तरह हम सब को अपनी जिंदगी में नबी की सुन्नत को अपनाना चाहिए जिससे हमारी दुनिया और अखिरत सवरती है। जुलूस में व्यापार मंडल जिलाध्यक्ष अबू फखर खान, राईनी समाज के जिलाध्यक्ष अतीक अहमद, नेहाल अहमद, मुहम्मद अरशद, वजहुल कमर उर्फ आजम, गुलशन राईनी, जाहिद, अत्तारी, अनवर आलम, समीर अंसारी आदि लोग शामिल थे। जुलूस को शांति व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस अधीक्षक डा. यशवीर सिंह ने सर्किल के क्षेत्राधिकारी व थानाध्यक्षों को सख्त निर्देश दिया है कि जबतक जुलूस का समापन न हो तबतक क्षेत्र व जुलूस के साथ भ्रमण करते रहें।